क्या है नपुंसकता :-
                               वैसे"/>
सुख सागर आयुर्वेद

पुरुषों के रोग (Gents Health Diseases)

जानिये क्या है नपुंसकता

क्या है नपुंसकता :-
                               वैसे तो पुरुषों में Infertility(बांझपन) या Impotance (नपुंसकता) के लक्षण ढूंढना बहुत मुश्किल होता है।लेकिन कुछ छोटी-छोटी बातों पर गौर करने से हमें नपुंसकता का पता चल जाता है। आमतौर पर नपुंसकता का कारण शरीर में उपलब्ध Hormones(हार्मोंस) में गड़बडी या इनकी कमी के कारण होती हार्मोंस में बदलाव व मानसिक तनाव के कारण भी पुरुषों में यह समस्या हो सकती है। इसीलिए Impotance (नपुंसकता) के लक्षणों को जानना बेहद मुश्किल हो जाता है। लेकिन फ़िर भी कुछ सामान्य सी बातों को जानकर आप अंदाजा लगा सकते हैं कि पुरुष नपुंसक है या नहीं।


आइए जानें पुरुषों में Symptoms of Impotance :-

ऐसे पुरुषों में नपुंसक होने के लक्षण मौजूद होते हैं, जो सम्भोग के समय मे सही तरिके से यौन क्रियाएं नहीं कर पाता या फ़िर बहुत जल्दी संखलित(Discharge) हो जाता हैं। दरअसल नपुंसकता का संबंध सीधे तौर पर ज्ञानेन्द्रियों से होता है। ऐसे में पुरुष कई बार इस बारे में जागरुक नहीं हो पाते, तो कई बार संकोचवश डाक्टर से इस बारे में खुलकर बात भी नहीं कर पाते, जिससे ये रोग बढने की संभावना बढ जाती है। नपुंसक व्यक्ति से कोई भी महिला साथी कभी भी पूर्ण रूप से संतुष्ट नहीं हो पाती।

                                कुछ लोग नपुंसक नहीं होते लेकिन घबराहट और मन में डर या किसी मानसिक बीमारी आदि के कारण वे उत्तेजित नहीं हो पाते हैं और यहि डर और घबराहट भविष्य में ऐसे पुरुषों में नपुंसकता का कारण बन जाता है और तो और वो घबराहट के कारण अपनी पार्टनर से दूर-दूर रहने लगते हैं।

पुरुषों में बांझपन के लक्षण(Symptoms of Infertility in Men):-

1. जो पुरुष संभोग के दौरान सही तरीके से यौन क्रियाएं नहीं कर पाता या फ़िर बहुत जल्दी संखलित हो जाता है तो यह नपुंसकता का लक्षण है। नपुंसक होने पर पुरुष के लिंग में कठोरता या तो आती नहीं और अगर आती है तो बहुत जल्दी शांत हो जाती है। संभोग के दौरान अचानक लिंग में कठोरता का कम होना ये प्रमुख लक्षण है।

2. दरअसल  नपुंसकता का संबंध सीधेतौर पर ज्ञानेन्द्रियों से होता है। घबराहट और जागरूकता का अभाव या यूं कहें कि सही जानकारी का ना होना भी इसका एक कारण है।

3.   हालांकि नपुंसकता अधिक उम्र के व्यक्तियों में ज्यादा पाई जाती है, जिससे पुरुष महिलाओं के पास जाने से भी घबराने लगते हैं। उम्र बढने के साथ ही यौन इच्छा में कमी होने लगती है। जो पुरुष सेक्स क्रिया करने में रुचि नहीं रखते और जिनमें उत्तेजना नहीं होती वे पूर्ण नपुंसक होते हैं। जबकि जो पुरुष एक बार तो उत्तेजित होते हैं, लेकिन घबराहट या किसी अन्य कारण से अक्सर जल्दी शांत हो जाते हैं, उन्हें आंशिक नपुंसक कहा जाता है।

4. संभोग करने के दौरान या करने से पहले घबराहट होना, ऐसे लोगों में विश्वास की कमी होती है और उनके अंदर डर सा बना रहता है, संभोग के दौरान जल्दी डिस्चार्ज हो जाना, संभोग के दौरान अचानक लिंग में कठोरता का कम होना नपुंसकता (impotance) के कारण पुरुष का लिंग सामान्य से छोटा हो जाता है। जिससे पुरुष ठीक तरह से संभोग करने में असमर्थ होता है, नपुंसक लोगों में आत्मविश्वास की कमी होना, अक्सर ऐसे लोग भीड़ से घबराते हैं, और महिलाओं से बात करने में दिक्कत होती है

5. नपुंसक व्यक्ति के अंडकोष छोटे हो जाते हैं। नपुंसकता के कारण व्यक्ति थकान महसूस करता है जिसके कारण उसका मन संभोग करने को नहीं करता।

6. नपुंसक व्यक्ति की प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है, जिससे सही तरह से संभोग ना करने के कारण व्यक्ति बीमार रहने लगता है। बांझपन के कारण व्यक्ति  के प्रजनन अंग कमजोर हो जाते हैं। भागदौड़  भरी जिंदगी ने लोगों को मानसिक और शारीरिक रूप से कमजोर बना दिया है। फ़ास्टफ़ूड का ज्यादा प्रयोग और खान-पान में पोषक तत्वों की कमी इसका प्रमुख कारण है।

7. जो लोग युवावस्था में अपनी कालेज लाइफ़ में दोस्तों के साथ पोर्न फ़िल्म का आनंद लेते हुए अपने वीर्य का अधिक मात्रा में क्षरण करते हैं, आगे चल कर उनमें भी ये देखने को मिलती है क्योंकि ज्यादा हस्त मैथुन से उनकी नसें कमजोर हो जाती हैं और इन्द्री का टेढापन आ जाता है
8. इसका मुख्य लक्षण आजकल युवाओं मे देखने को मिलता है जो कि पेट का खराब रहना, अधिक दिनों तक कब्ज का होना, भूख का ना लगना, थकावट ज्यादा महसूस करना,शारीरिक कमजोरी , उठते-बैठते चक्कर आना, याददाश्त का कमजोर होना आदि है

                              अब आपको समझ आ गया होगा कि आपका शरीर क्या महसूस कर रहा है अगर ये लक्षण आपको अपने आप में नज़र आ रहे है तो देर करना आपकी जिंदगी कि सबसे बडी गलती है

                               अगर आप इस रोग से पीड़ित हैं और थक चुके है दवाईयां खा-खाकर, और फ़िर भी आपको आराम नहीं मिल रहा तो मजबूर होकर मत जियें। आयुर्वेद में इसका स्थायी इलाज है। हम सभी रोगों क इलाज़ हस्तनिर्मित आयुर्वेदिक द्वाईयों(Handmade Ayurvedic Medicines)से करते हैं। अतिरिक्त जानकारी के लिए आप हमें सम्पर्क कर सकते हैं, हमारे फ़ोन नम्बर वैबसाइट पर उपलब्ध हैं।
 

 

गठिया(Arthritis) का सम्पूर्ण इलाज

संधि शोथ यानि "जोड़ों में दर्द" (Arthritis/आर्थ्राइटिस) के रोगी को एक या कई जोड़ों में दर्द (Pain), अकड़न या सूजन आ जाती है। इस र...

मधुमेह(Diabetes) का सम्पुर्ण इलाज

मधुमेह (Diabetes) स्वयं ही एक घातक रोग नहीं है, अपितु यह कई असाध्य रोगों का जन्मदाता भी है। आज पूरे विश्व में ही नहीं बल्...

सोराइसिस तथा एक्जिमा (PSORISIS & ECZEMA) का ईलाज

         सोराइसिस (Psorisis) त्वचा का एक ऐसा रोग है जो पूरे शरीर की त्वचा पर तेजी से फैलता है। इसमें त्वचा में ...

आईये जाने क्या है सफ़ेद दाग(ल्युकोडर्मा)(leucoderma)

                   ल्युकोडर्मा(Lyukoderma) चमडी का भयावह रोग है,जो रोगी की शक्ल सूरत प्रभावित कर शा...

Hair Loss - Ayurveda Herbs Natural Remedies (Hindi)